एमपी भूलेख: भू नक्शा मध्यप्रदेश खसरा खतौनी नकल, MP Bhu Abhilekh

Bhu naksha MP | एमपी भूलेख | MP bhu abhilekh | MP bhuabhilekh | MP bhulekh naksha | भूलेख एम पी | भू नक्शा मध्यप्रदेश | bhu abhilekh MP | एमपी भूअभिलेख

मध्य प्रदेश भूलेख योजना यह एक ऐसी योजना है जिसके माध्यम से मध्य प्रदेश के लोग अपने जमीन जायदाद की जानकारी बिलकुल आसानी से इंटरनेट के माध्यम से ले सकते हैं। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि केंद्र सरकार यानी कि हमारे माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा भारत को पूरी तरह से डिजिटल इंडिया बनाने की प्रक्रिया जारी कर दी गई है। इस प्रक्रिया में अपना सहयोग करते हुए मध्य प्रदेश के सरकार ने भी एक नई योजना निकाली है जिस योजना का नाम एमपी भूलेख योजना है इस योजना के माध्यम से मध्य प्रदेश के सभी नागरिक अपनी जमीन जायदाद के बारे में जानकारी ऑनलाइन इसके ऑफिशियल वेबसाइट के माध्यम से ले सकते हैं और घर बैठे ही अपने जमीन जायदाद के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। तो अगर आप इस योजना के बारे में और भी ज्यादा जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारे इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।

एमपी भूलेख 2022 क्या है

दोस्तों आप लोगों को तो इस बात की जानकारी जरूर होगी कि जब कोई किसी जमीन को खरीदना है या फिर भेजता है तो उसके दिमाग में एक बात चलती रहती है कि क्या जो उससे जमीन खरीद रहा है या फिर उसको जो जमीन बेच रहा है वह धोखा धड़ी कर रहा है या नहीं। क्योंकि आजकल ज्यादातर मामलों में यह देखने को मिल रहा है कि सिर्फ जमीन बेचने वाला ही नहीं बल्कि जमीन खरीदने वाला भी धोखाधड़ी कर रहा है। इसलिए धोखाधड़ी से बचने के लिए जमीन का कागजात दिखा जाता है ताकि इससे यह साबित हो सके कि यह जमीन बेचने वाले की ही है।

अगर किसी को जमीन के कागजात निकलवाने होते हैं तो उससे जिले के तहसील में जाकर कई दिन तक लगातार चक्कर काटने पड़ते हैं तब जाकर वह जमीन के कागजात को निकाल सकते हैं। लेकिन अब आप एमपी भूलेख के इस ऑफिशियल वेबसाइट के माध्यम से अपने घर बैठे ही आप जमीन जायदाद के कागजात को देख सकते हैं और समय के साथ-साथ लगने वाले पैसों की भी बचत कर सकते हैं।

हम आपको बता दें कि मध्य प्रदेश सरकार के द्वारा पूरे राज्य की जमीन जायदाद या फिर खसरा खतौनी नक्शा आदि को ऑनलाइन एमपी भूलेख के ऑफिशियल वेबसाइट पर डाल दिया गया है। मध्य प्रदेश का कोई भी नागरिक अगर घर बैठे अपने जमीन जायदाद के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहता है या फिर अपने खसरा खतौनी की जानकारी प्राप्त करना चाहता है तो वह एमपी भूलेख की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर बहुत ही आसानी से प्राप्त कर सकता है।

मध्य प्रदेश भूलेख के क्या फायदे हैं

जब से भारत को डिजिटल इंडिया बनाने घोषणा केंद्र सरकार यानी कि माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा किया गया है तब से केंद्र सरकार और कई राज्य सरकारों के द्वारा कई सारी योजनाएं निकाली गई ताकि नरेंद्र मोदी के बढ़ाई गए इस कदम से सभी के कदम मिले और जल्द से जल्द हमारा इंडिया डिजिटल इंडिया बन जाए। इसी कदम में नरेंद्र मोदी जी को साथ देने के लिए मध्यप्रदेश सरकार ने भी अपनी एक कदम बढ़ाए और वह भी मध्य प्रदेश भूलेख है योजना की शुरुआत की। इस योजना के तहत मध्य प्रदेश के सारे जमीन की डिजिटलीकरण कर दी गई है।

इस वेबसाइट पर मध्य प्रदेश का कोई भी नागरिक आकर अपनी जमीन की स्थिति जांच कर सकते हैं साथ ही साथ अगर कोई मध्यप्रदेश के किसी बाजार के क्षेत्र की जमीन के बारे में जानना चाहता है तो भी आसानी से जान सकता है और बाजार की जमीन के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकता है। मध्य प्रदेश भूलेख योजना से मध्य प्रदेश के आम जनता को कई फायदे हैं। अगर आप इस के कुछ और फायदे के बारे में जानना चाहते हैं तो चलिए अब हम नीचे आपको बताते हैं कि मध्य प्रदेश भूलेख योजना से मध्य प्रदेश के आम जनता को क्या-क्या फायदे हैं।

  • जैसा कि आप सभी जानते हैं कि आज से कुछ समय पहले जब जमीन जायदाद की डिजिटलीकरण नहीं की गई थी तब लोगों को अपनी जमीन के कागजात लेने के लिए तहसील खाने और पटवार खाने के चक्कर लगातार कई दिनों तक काटने पडते थे तब जाकर उन्हें अपने जमीन की कागजात मिलती थी। यह योजना आ जाने से आपको यह भी फायदा है कि अब आपको तहसील और पटवार खाने के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे।
  • जब आप जमीन खरीदने जाते थे तो कई बार ऐसा होता था कि लोग जमीन के नकली कागजात बनाकर आपको दे देते थे और आप उसे असली कागजात समझ कर धोखा खा जाते थे। अब ऐसा नहीं हो पाएगा क्योंकि अब सारा कुछ डिजिटलीकरण हो गया है और आप उसी समय इसके ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं कि वह जमीन किसकी है जिसे आप खरीदना चाहते हैं।
  • इससे लोगों को यह भी फायदा होगा कि जो लोग पहले दूसरों की संपत्ति को बेच देते थे और पैसे हड़प लेते थे वैसे लोगों के लिए यह योजना बहुत ही भारी पड़ने वाली है और अब उन लोगों की संख्या भी कम हो जाएगी और जो लोग ऐसा करेंगे उनको जेल की हवा भी खानी पड़ेगी।
  • अगर कोई आपके जमीन पर पहले से कब्जा करके बैठा है और वह दावा कर रहा है कि वह जमीन उसकी है या फिर वह आपके पास आकर यह कह रहा है कि वह जमीन उसकी है तो आप बहुत ही आसानी से इसके ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर और वहां पर दिखा सकते हैं कि नहीं यह जमीन मेरी है और अपने जमीन पर मालिकाना हक जमा सकते हैं।
  • जैसा कि आप सभी जानते हैं कि हमारे जमीन के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए हमें खसरा संख्या याद करना बेहद जरूरी है क्योंकि अगर हम का सत्संग है याद नहीं रखते हैं तो यह नहीं पता चल पाता है कि हमारा जमीन कहां पर है। यदि आप अपना खसरा संख्या भूल गए हैं तो आप इसके ऑफिशल वेबसाइट पर जाकर अपना खसरा संख्या पता कर सकते हैं और खाता संख्या पता करने के बाद बहुत ही आसानी से अपनी जमीन के बारे में जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं।
  • अगर आप पहले अपनी जमीन जायदाद की खरीद बिक्री करते थे तो उसमें कुछ पैसे आपको दलालों को भी देने पड़ते थे लेकिन अब ऐसा नहीं है आप इंटरनेट के माध्यम से अपनी जमीन का मालिकाना हक किसी और को दे सकते हैं या फिर उनसे जमीन का मालिकाना हक ले सकते हैं तो इससे आपको दलालों से भी छुट्टी मिली और अब आपको यह भी फायदा हुआ कि जो पैसे आप दलालों को देते हैं वह पैसे भी बच जाएंगे।

MP Land Record जाँच ऑनलाइन कैसे करें?

दोस्तों हमने आपको पहले भी यह बात बता चुके हैं कि एमपी भूलेख ऐसा है जिसे वेबसाइट पर अपलोड किया गया है यानी कि अगर आप इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं और अपने जमीन जायदाद की जानकारी घर बैठे प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको इसके ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा। चुकी यह योजना किसानों के लिए बनाई गई है ताकि किसान भी अपने घर बैठे अपने जमीन जायदाद के बारे में जानकारी ले सके। इस योजना के माध्यम से लोगों को अपनी जमीन चाहता के बारे में जानकारी देने में दिक्कतों का सामना ना करना पड़े इसलिए इसकी प्रक्रिया बहुत ही आसान रखी गई है।  फिर भी अगर आपको एमपी भूलेख योजना के ऑफिशियल वेबसाइट पर अपनी जमीन जायदाद के बारे में जानकारी लेने मैं दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है तो आप घबराइए मत चले हम आपको नीचे कुछ आसान से टिप्स बताते हैं जिसके माध्यम से आप बहुत ही आसानी से इस योजना की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर अपनी जमीन जायदाद की बारे में जानकारी ले सकते हैं।

  • अगर आप यूपी भूलेख की ऑफिशियल वेबसाइट के माध्यम से अपने जमीन जायदाद के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको अपने स्मार्टफोन में या फिर आपको उस डिवाइस में क्रोम ब्राउज़र ओपन कर लेना है जिस डिवाइस के माध्यम से आप अपनी जमीन जायदाद के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं जैसे कि अगर आप अपने स्मार्टफोन में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस स्मार्टफोन में क्रोम ब्राउजर को ओपन कर ले या फिर अगर आप अपने लैपटॉप या फिर कंप्यूटर में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो अपने लैपटॉप या कंप्यूटर में क्रोम ब्राउजर को ओपन करें।
  • आप जैसे ही क्रोम ब्राउज़र ओपन करेंगे चाहे आप लैपटॉप या कंप्यूटर में अपने क्रोम ब्राउज़र को ओपन क्यों नहीं या फिर अपने स्मार्टफोन में क्रोम ब्राउज़र को ओपन किए हैं आपको ऊपर में एक सर्च बॉक्स दिखाई देगा। आपको उस सर्च बॉक्स पर क्लिक करना है और वहां पर एमपी भूलेख लिखकर सर्च के बटन पर क्लिक कर देना है।
  • जैसे ही आप को रूम ब्राउज़र की सर्च बॉक्स में एमपी भूलेख लिखकर सर्च करेंगे वैसे ही आपके सामने कई सारी वेबसाइट खुल कर आ जाएंगी। आपको उनमें से सबसे पहले वाले वेबसाइट पर क्लिक करना है क्योंकि जो वेबसाइट आपके सामने सबसे पहले आएगी वही वेबसाइट इस योजना की ऑफिशियल वेबसाइट होगी।
  • जैसे ही आप सबसे पहले वाली वेबसाइट यानी कि इसके ऑफिशियल वेबसाइट पर क्लिक करेंगे वैसे ही आपके सामने इसके ऑफिशल वेबसाइट के होमपेज खुलकर आ जाएगी।
  • जैसे ही आपके सामने होम पेज खुलेगा तो वहां पर आपको फ्री सर्विस का एक ऑप्शन देखने को मिल जाएगा। आपको इस फ्री सर्विस के ऑप्शन पर क्लिक कर देना है।
  • आप जैसे ही फ्री सर्विस के ऑप्शन पर क्लिक करेंगे वैसे ही आपके सामने कुछ इस तरह के ऑप्शन दिखाई देने लगेंगे।
  • Khasra / B1/ Map – खसरा/ बी-1/ नक्शा
  • Bhu-naksha – भू नक्शा
  • Copy application form – प्रतिलिपि आवेदन पत्र
  • Download – डाउनलोड
  • Khasra / B1/ Map Copy – खसरा/ बी-1/ नक्शा प्रतिलिपि
  • अब आप जो भी लिखना चाहते हैं यानी कि अपनी जमीन के बारे में जो भी जानकारी लेना चाहते हैं उस अवसर पर क्लिक कर दें और उसके बारे में अच्छी तरह से जानकारी ले लें।

एमपी भूलेख में पंजीकरण करने की प्रक्रिया

दोस्तों चलिए अब हम आपको बताते हैं कि एमपी भूलेख में आप पंजीकरण कैसे कर सकते हैं। अगर आप पहले से जानते हैं कि एमपी भूलेख की ऑफिशियल वेबसाइट में पंजीकरण कैसे किया जाता है तब तो बिल्कुल सही है लेकिन अगर आपको एमपी भूलेख के ऑफिशियल वेबसाइट में पंजीकरण करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है तो घबराइए मत चलीए हम आपको नीचे इस आर्टिकल में कुछ ऐसे स्टेप्स बताते हैं जिसके माध्यम से आप बहुत ही आसानी से एमपी भूलेखे ऑफिशल वेबसाइट पर पंजीकरण कर सकते हैं और इस वेबसाइट से अपनी जमीन जायदाद के बारे में जानकारी निकाल सकते हैं।

  • अगर आप मध्य प्रदेश भूलेख के ऑफिशियल वेबसाइट पर पंजीकरण करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको या करना होगा कि आप जिस डिवाइस में मध्य प्रदेश भूलेख के ऑफिशल वेबसाइट पर पंजीकरण करना चाहते हैं उस डिवाइस में क्रोम ब्राउजर को ओपन कर ले। अगर आप इस स्मार्टफोन में मध्य प्रदेश भूलेख के ऑफिशियल वेबसाइट पर पंजीकरण करना चाहते हैं तो अपने स्मार्टफोन में क्रोम ब्राउज़र को ओपन कर ले या फिर अगर आप पर लैपटॉप या कंप्यूटर में मध्य प्रदेश भूलेख ऑफिशल वेबसाइट पर पंजीकरण करना चाहते हैं तो अपने लैपटॉप या कंप्यूटर में क्रोम ब्राउज़र को ओपन कर ले।
  • जैसे ही आप क्रोम ब्राउज़र को ओपन करेंगे वैसे ही आपके सामने क्रोम ब्राउज़र के ऊपर में एक सर्च बॉक्स दिखाई देगा आपको उस सोच बॉक्स में एमपी भूलेख लिखना है और सर्च के बटन पर क्लिक कर देना है।
  • जैसे ही आप क्रोम ब्राउजर में एमपी भूलेख लिखकर सर्च करेंगे वैसे ही आपके सामने कई सारी वेबसाइट आ जाएंगी। आप को इनमें से सबसे पहले वाली वेबसाइट पर क्लिक कर देना है।
  • आप जैसे ही सबसे पहले वाली वेबसाइट यानी कि एमपी भूलेख के ऑफिशियल वेबसाइट को ओपन करेंगे तो आपके सामने एमपी भूलेख के ऑफिशियल वेबसाइट के होम पेज खुल कर सामने आ जाएगी।
  • आपके सामने जैसे ही इस योजना की ऑफिशल वेबसाइट की होमपेज खुलेगी वैसे ही आपके सामने पब्लिक यूजर का ऑप्शन दिखाई देगा। आपको उस पब्लिक यूजर के ऑप्शन पर क्लिक कर देना है।
  • आप जैसे ही पब्लिक यूजर के विकल्प पर क्लिक करते हैं वैसे ही आपके सामने रजिस्टर्ड पब्लिक यूजर का एक विकल्प दिखाई देने लगता है आपको अब रजिस्टर पब्लिक यूजर के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • आप जैसे ही रजिस्टर पब्लिक सूचक के ऑप्शन पर क्लिक करते हैं वैसे ही आपके सामने एक नया पेज खुल जाता है और उस पेज में आपको एक फॉर्म देखने को मिलता है। उस फॉर्म में आपकी कुछ पर्सनल जानकारी मांगी जाती है जैसे कि आपका नाम आपका ईमेल आईडी आपका मोबाइल नंबर इत्यादि। उस फॉर्म में आपसे जो भी जानकारी मांगी जाती है आपको बिल्कुल सही सही भर देना है क्योंकि अगर आप एक भी जानकारी गलती भरेंगे तो आप एमपी भूलेख के ऑफिशियल वेबसाइट पर पंजीकरण नहीं कर पाएंगे। इसलिए आपसे फॉर्म में जो भी जानकारी मांगी जाएगी वह सभी जानकारी सही-सही भाग देना है।
  • आप जैसे ही इस फॉर्म में मांगी गई सारी जानकारी बिल्कुल सही सही भर देंगे वैसा ही आपके सामने नीचे रजिस्टर का एक ऑप्शन दिखाई देगा आपको इस रजिस्टर्ड के ऑप्शन पर क्लिक कर देना है।

आप जैसे ही फॉर्म को भरकर रजिस्टर के ऑप्शन पर क्लिक करेंगे वैसे ही आप समझ लीजिए कि आप एमपी भूलेख की ऑफिशियल वेबसाइट पर पंजीकरण करने में सक्षम हो गए हैं। अब अगर आप चाहे तो एमपी भूलेखे ऑफिशल वेबसाइट पर जाकर बहुत ही आसानी से अपनी जमीन जायदाद के बारे में कोई भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

हम आपको बता दें कि अगर आप किसी और की जमीन जायदाद के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप किसी और की जमीन जायदाद के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं लेकिन आप उसके जमीन जायदाद की जानकारी में कुछ फिर बदलाव नहीं कर सकते हैं सिर्फ दूसरों की जमीन जायदाद के बारे में जान सकते हैं कि जमीन किसकी है और कितनी है। लेकिन अगर आप चाहे तो अपनी जमीन जायदाद के जानकारी में फिर बदलाव कर सकते हैं जैसे कि अगर आप अपनी जमीन किसी और को भेजते हैं तो आप अपने जमीन के मालिकाना हक को उसको दे सकते हैं।

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने इस आर्टिकल के माध्यम से एमपी भूलेख के बारे में जाना। हमने आपको इस आर्टिकल में बताया कि एमपी भूलेख ऐसा पोर्टल है जिसके माध्यम से मध्य प्रदेश का कोई भी नागरिक अपनी जमीन जायदाद के बारे में जानकारी इस पोर्टल के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर पता कर सकता है। हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से एमपी भूलेख पोर्टल के बारे में लगभग सारी जानकारी प्रदान कर दी है।

तो उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा और इसमें दी गई सारी जानकारी आपको बिल्कुल अच्छे से समझ में आ गई होगी। तो अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया और इसमें दी गई सारी जानकारी बिल्कुल अच्छे से समझ में आ गई तो आप इसे अपने दोस्तों रिश्तेदारों और अपने सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले। ताकि आप से जुड़े सभी व्यक्तियों को इस पोर्टल के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके और वह भी अपनी जमीन जायदाद की जानकारी ऑनलाइन प्राप्त कर सकें।

और पढ़ें:

होम पेज

Leave a comment